वर्ल्ड पोस्ट डे 2021, 9 अक्टूबर को मनाया जाता है



समय बदला, डाक सेवाओं की तकनीक में भी बदलाव किया गया

वेब ख़बरिस्तान। आज जहाँ इन्टरनेट का ज़माना है, हर ख़बर बहुत तेजी से एक दूसरे को बहुत ही आसानी से मिल जाती है। दूर बैठे विदेशों में रिश्तेदारों से आसानी से बातचीत हो जाती है।  लेकिन अगर पहले की बात की जाये तो एक दूसरे का हाल जानने के लिए पोस्ट के द्वारा ही जाना जाता था। भले ही आज हम एक दूसरे का हालचाल जानने और संदेशो को पहुँचाने के लिए इन्टरनेट का सहारा ले रहे हैं, लेकिन इस बीच हम अभी भी कुछ चीजों को पोस्ट के जरिये ही भेज पाते हैं। तो ऐसा बिलकुल नहीं कहा जा सकता की डाक सेवाएं ख़त्म हो गयी है। बहुत सी चीजों के लिए डाक सेवाओं का इस्तेमाल किया जाता है। डाक सेवाओं का हमारे जीवन में बहुत ही अहम योगदान रहता है। डाक एक शहर से दूसरे शहर तक संदेश पहुंचाने का सबसे विश्वसनीय, सुगम और सस्ता साधन रह चूका है। आज इस ख़बर में हम आपको विश्व डाक दिवस से जुड़ी और भी जानकारियां देंगे।

वर्ल्ड पोस्ट डे क्यों मनाया जाता है


आपको बता दें हर साल 9 अक्तूबर को वर्ल्ड पोस्ट डे मनाया जाता है। इसको मनाने का मुख्य उद्देश्य लोगों को डाक सेवाओं और डाक विभाग के महत्व के बारे में बताना है। लोगों को इस बात से अवगत और जागरूक करना है कि डाक सेवा अभी भी हमारी ज़िन्दगी का अहम् हिस्सा है। इसके बिना हामरे बहुत से काम रुक सकते हैं।

इस दिन का इतिहास

वर्ल्ड पोस्ट डे का इतिहास काफी पुराना माना जाता है। साल 1969 में टोकियो, जापान में आयोजित एक सम्मेलन के दौरान 9 अक्तूबर को वर्ल्ड पोस्ट डे के रूप में मनाने का फैसला लिया गया था और तभी से इस दिन को मनाया जाने लगा और लोगों को इसके प्रति जागरूक किया जाने लगा।

समय बदला, डाक सेवाओं की तकनीक में भी बदलाव किया गया

कहते हैं की बदलते समय के साथ हमें खुद को भी बदल लेना चाहिए।  कुछ ऐसा ही पोस्ट ऑफिस की सेवाओं में भी किया गया। बदलते समय के साथ पोस्ट ऑफिस को नई-नई तकनीकों से जोड़ने का काम किया गया है। और इसमें उनको कागियो हद तक सफलता भी मिली। जहाँ पहले डाक पहुंचने में काफी समय लग जाता था, वहीँ अब डाक पहले के मुकाबले काफी कम समय में पहुंच जाती हैं।

 

Related Links