हिमाचल में OPS को चुनावी अस्त्र बनाएगी कांग्रेस, इन नेताओं ने बनाई रणनीति

कांग्रेस ने चुनाव घोषणा पत्र तैयार करने की प्रक्रिया शुरू कर दी है।

कांग्रेस ने चुनाव घोषणा पत्र तैयार करने की प्रक्रिया शुरू कर दी है।



ओपीएस को चुनावी अस्त्र बनाकर भाजपा के मिशन रिपीट को डिफीट में बदलने की रणनीति तैयार की है

ख़बरिस्तान, धर्मशाला


इस साल के अंत में होने वाले हिमाचल विधानसभा चुनाव में कांग्रेस पार्टी ने ओल्ड पेंशन स्कीम यानी ओपीएस को चुनावी अस्त्र बनाकर भाजपा के मिशन रिपीट को डिफीट में बदलने की रणनीति तैयार की है। कांग्रेस ने चुनाव घोषणा पत्र तैयार करने की प्रक्रिया शुरू कर दी है। हिमाचल प्रदेश कांग्रेस चुनाव प्रचार समिति के अध्यक्ष सुखविंदर सिंह सुक्खू, पूर्व मंत्री व घोषणा पत्र समीति के अध्यक्ष धनी राम शांडिल, विधायक रोहित ठाकुर, भवानी सिंह पठानिया ने इस हेतु शिमला में आयोजित बैठक में भाग लिया।

प्रदेश कांग्रेस कमेटी के सचिव राजेंद्र शर्मा ने बताया कि बैठक में सभी ने एक मत से निर्णय लिया कि ओल्ड पेंशन स्कीम बहाली को कांग्रेस अपने घोषणा पत्र में शामिल करेगी। सभी सरकारी विभागों, बोर्ड-निगमों, सरकारी विश्वविद्यालयों, सार्वजनिक उपक्रमों के कर्मचारियों के लिए कांग्रेस सत्ता में आने पर पुरानी पेंशन बहाल करेगी। छत्तीसगढ़ और राजस्थान की कांग्रेस सरकारें इसे पहले ही बहाल कर चुकी हैं।

नई रोज़गार नीति लाने पर मंथन

बैठक में बेरोजगारी के मुद्दे पर भी चर्चा हुई। 12 लाख से अधिक बेरोजगार युवाओं के लिए नई रोजगार नीति लाने का निर्णय लिया गया। इसे भी कांग्रेस अपने घोषणा पत्र में शामिल करेगी। पर्यटन को बढ़ावा देने, महिला सुरक्षा व बागवानी के लिए नई योजनाएं बनाने सहित नशा और खनन माफिया पर शिकंजा कसने को लेकर गहन विचार-विमर्श किया गया।ग्रामीण लोगों की आय के साधन बढ़ाने की योजनाओं को भी घोषणा पत्र में शामिल किया जाएगा। प्रदेश सचिव राजेंद्र शर्मा ने बताया कि कांग्रेस सरकार पारदर्शिता कानून लाएगी, जिससे लोग जनप्रतिनिधियों की आय के स्रोतों व वृद्धि की हर साल जानकारी ले सकेंगे।

Related Tags


ops himachal elections himachal pradesh politics himachal bjp hp elections

Related Links



webkhabristan