पाकिस्तानी महिला जासूस के हनी ट्रैप में फंसा भारतीय इंजीनियर, खुफिया जानकारी शेयर की

सांकेतिक तस्वीर।

सांकेतिक तस्वीर।



अभियुक्त 29 वर्षीय इंजीनियर मल्लिकार्जुन रेड्डी को पुलिस ने शुक्रवार को उसके घर से गिरफ़्तार किया है

खबरिस्तान नेटवर्क। पाकिस्तान की महिला जासूस ने हैदराबाद में डिफ़ेंस रिसर्च एंड डिवलेपमेंट लैबोरेटरी (डीआरडीएल) में काम करने वाले इंजीनियर को हनी ट्रैप में फंसाकर देश की ख़ुफ़िया जानकारी हासिल कर ली है।

अंग्रेज़ी अख़बार टाइम्स ऑफ इंडिया की ख़बर के मुताबिक पाकिस्तानी जासूस ने उसे शादी और प्यार का झांसा दिया और फिर भारत के मिसाइल कार्यक्रम से जुड़ी जानकारी लीक करने के लिए मजबूर किया। अभियुक्त 29 वर्षीय इंजीनियर मल्लिकार्जुन रेड्डी को पुलिस ने शुक्रवार को उसके घर से गिरफ़्तार कर लिया।

नताशा राव बनकर फेसबुक पर मिली

पाकिस्तानी जासूस ने इंजीनियर को अपना नाम नताशा राव बताया था। रेड्डी को उसने फेसबुक पर अपने जाल में फंसाया। पाकिस्तानी जासूस ने रेड्डी को शादी का वादा कर के उससे भारत के परमाणु कार्यक्रम से जुड़ी संवेदनशील जानकारियां हासिल कर लीं।


रचाकोंडा पुलिस के एक अधिकारी के हवाले से ख़बर में बताया गया कि इंजीनियर जनवरी 2020 और दिसंबर 2021 के बीच दो साल तक नताशा के संपर्क में रहा। नताशा के सिमरन चोपड़ा और ओमिशा अद्दी नाम से दो और फ़ेसबुक अकाउंट थे।

कभी नहीं की वीडियो कॉल

नताशा हमेशा रेड्डी से फ़ेसबुक मेसेंजर और व्हॉट्सऐप पर बात करती थीं लेकिन कभी वीडियो कॉल नहीं की। उसने रेड्डी की ओर से बार-बार तस्वीरें देने की मांग भी मानी। उसने ख़ुद को यूके के डिफ़ेंस जर्नल की एक कर्मचारी बताया था। जासूसी के आरोप में गिरफ़्तार रेड्डी ने पूछताछ के दौरान सब कुछ कबूल कर लिया है। अब पुलिस और अधिक जानकारी पाने के लिए रेड्डी की कस्टडी पाने की योजना बना रही है।

ख़बर के अनुसार अभियुक्त रेड्डी का काम डिफ़ेंस मैन्युफ़ैक्चरिंग इकाइयों में जाकर वहाँ काम की प्रगति का आकलन करना और डेडलाइन तय करना था। इसलिए उसके पास ये जानकारी थी कि मिसाइल बनाने में किन तकनीक का इस्तेमाल हुआ है।

पैसे का दिया था लालच

रेड्डी के पास से पुलिस ने दो मोबाइल फ़ोन और एक लैपटॉप बरामद किया है, जिसमें कई अहम सबूत हैं। इसमें मिसाइल निर्माण से जुड़ी तस्वीरें और विस्तृत जानकारी हैं, जिसे नताशा के साथ अभियुक्त ने साझा किया था। जाँचकर्ताओं को रेड्डी के फ़ोन में जासूस की हिंदी और अंग्रेज़ी में वॉइस क्लिप भी मिले हैं।

चूंकि इंजीनियर ने ये भी दावा किया कि नताशा ने बैंक ख़ाते की जानकारी मांगी थी, लेकिन पैसे ट्रांसफ़र नहीं किए, इसलिए पुलिस अब रेड्डी के अकाउंट को खंगालकर ये पता लगाने की कोशिश कर रही है कि क्या वो अकेला इसमें शामिल था या फिर किसी बड़े जासूसी गैंग का हिस्सा था।

Related Tags


Indian engineer trapped in the honey trap of Pakistani female spy shared intelligence

Related Links



webkhabristan