अफ़ग़ानिस्तान में जान गंवाने वाले भारतीय फोटोग्राफर दानिश सिद्दीकी को दूसरी बार मिला पुलित्जर पुरस्कार, इन फोटोज ने दिलाया अवार्ड

दानिश मुंबई के रहने वाले थे

दानिश मुंबई के रहने वाले थे



पुलित्जर पुरस्कार 2022 के विजेताओं की घोषणा की गई

वेब खबरिस्तान। अमेरिका के सबसे बड़े पुलित्जर पुरस्कार 2022 के विजेताओं की घोषणा की गई। इसमें फोटोजर्नलिस्ट दानिश सिद्दीकी का भी नाम शामिल है। इस बार सिद्दीकी और उनके सहयोगियों अदनान आबिदी, सना इरशाद मट्टू और अमित दवे को भारत में कोरोना के कारण हुई मौतों की तस्वीरें खींचने के लिए सम्मानित किया गया है। पिछले साल 16 जुलाई को अफगानिस्तान के कंधार में तालिबानियों और सिक्योरिटी फोर्सेस की मुठभेड़ के दौरान भारतीय फोटो जर्नलिस्ट दानिश सिद्दीकी की मौत हो गई थी। इस पर तालिबान ने कहा था कि उन्हें नहीं पता कि किसकी गोलीबारी में पत्रकार मारा गया। सिद्दीकी 38 साल के थे।

फोटो 24 अप्रैल को नई दिल्ली के श्मशान घाट की है। लोग कोरोना वायरस पीड़ितों के शवों का अंतिम संस्कार करते दिख रहे हैं।

2018 में मिला था पुलित्जर प्राइज


दानिश सिद्दीकी और उनकी टीम को बेहतरीन काम के लिए 2018 में पहला पुलित्जर अवॉर्ड मिला था। अपनी तस्वीरों से सिद्दीकी ने म्यामांर के रोहिंग्या शरणार्थियों की समस्या को दिखाया था। ये तस्वीरें देखकर लोगों को रोहिंग्या संकट की गंभीरता का अंदाजा लगा था।दानिश मुंबई के रहने वाले थे। उन्होंने दिल्ली की जामिया मिलिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी से इकोनॉमिक्स में ग्रेजुएशन किया था। 2007 में उन्होंने जामिया के मास कम्युनिकेशन रिसर्च सेंटर से मास कम्युनिकेशन की डिग्री ली थी। उन्होंने टेलीविजन से अपना करियर शुरू किया और 2010 में रॉयटर्स से जुड़ गए।

क्या है पुलित्जर पुरस्कार 

पुलित्जर पुरस्कार अमेरिका का पत्रकारिता के क्षेत्र में दिया जाने वाला सबसे प्रतिष्ठित पुरस्कार है। यह अखबार के पत्रकारों, साहित्य और संगीत रचना के क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्य करने वालों को दिया जाता है। इसकी कुल 21 कैटेगरी हैं। 112 साल पहले अमेरिकी पत्रकार जोसेफ पुलित्जर ने कोलंबिया विश्वविद्यालय को करीब साढ़े छह करोड़ रुपए की राशि दान कर दी थी। इसी पैसे से बाद में उनके नाम पर पुलित्जर पुरस्कार शुरू किया गया।

Related Links