PM Modi Birthday :  क्या कहते हैं प्रधानमंत्री मोदी के सितारे, कब तक रहेगा मोदी राज

पीएम मोदी।

पीएम मोदी।



पीएम मोदी की कुंडली में - गजकेसरी योग, मूसल योग, केदार योग, रूचक योग, वोशि योग, भेरी योग, चंद्र मंगल योग, नीच भंग योग, अमर योग, कालह योग, शंख योग तथा वरिष्ठ योग

खबरिस्तान नेटवर्क। PM Narendra Modi Birthday & Kundli : गुजरात के मेहसाना में 17 सितंबर 1950 को सुबह 11:00 बजे जन्मा बालक विश्व के सबसे बड़ी लोकतांत्रिक सत्ता भारत देश का प्रधानमंत्री बना। जी हां यहां नरेंद्र मोदी की ही बात हो रही है, जिनका आज जन्मदिन है। प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी की कुंडली वृश्चिक लग्न व वृश्चिक राशि की है। लग्न व राशि के स्वामी मंगल इनके लिए रूचक महायोग तो बना ही रहे हैं साथ ही चंद्र-मंगल योग के साथ शत्रुहंता योग भी बना रहा है। इसके चलते मोदीजी के विरोधी व शत्रु इनका कभी बाल भी बांका नहीं कर पाएंगे। 

रूचक महायोग के कारण व्यक्ति के अंदर निर्णय लेने की क्षमता प्रबल होती है जिसका असर प्रधानमंत्री के लिए गए निर्णयों में देखा जा सकता है। चंद्र-मंगल योग से व्यक्ति देखने में साधारण दिखाई देता है लेकिन अपनी दिनचर्या के कामों में वह काफी फुर्तिला होता है, जो कि प्रधानमंत्री मोदी जी के दैनिक कार्यों में हमें देखने को मिलता है। साथ ही यह योग व्यक्ति को अनुशासन प्रिय बनाता है। पीएम नरेंद्र मोदी जी की कुंडली में गजकेसरी योग भी विद्यमान है जिसके कारण उनका व्यक्तित्व सिंह के समान दिखाई देता है। 

जन्मपत्री में लग्न भाव में चंद्र और मंगल दोनों एक साथ विराजमान हैं। मंगल इनका लग्न स्वामी है और अपने ही घर में बैठा है जिससे मोदी जी आत्मबल और साहस से अपने विरोधियों को मात देते हुए आगे बढ़ रहे हैं। भाग्येश चंद्र का लग्नेश के साथ लग्न भाव में स्थित होकर भाग्योदय कर रहा है। यह राजयोग का सूचक हैं। एकादश भाव में कर्मेश सूर्य, आयेश बुध स्वयं और केतु स्थित होकर आय भाव को बल प्रदान कर रहे हैं। गुरु चौथे घर में तथा शुक्र और शनि कर्म भाव में हैं।


प्रधानमंत्री मोदी की जन्म पत्रिका की सबसे बड़ी खासियत केन्द्र स्थानों में पाँच ग्रहों का उपस्थित होना है। इससे भी बड़ा एक राजयोग है जिसमें चन्द्रमा से केन्द्र में स्थित बृहस्पति से बन रहे गजकेसरी योग को चन्द्रमा से ही केन्द्र में बैठे शुक्र का सहयोग मिल रहा है। चतुर्थ भाव में बैठे बृहस्पति को दशम भाव में बैठे शुक्र दृष्टिपात कर रहे हैं, बल्कि दोनों ही ग्रह एक-दूसरे पर दृष्टिपात करके इस योग को कई गुना अधिक शक्तिशाली बना रहे हैं।

कई योग बना रहे प्रभावशाली

पीएम मोदी की कुंडली में - गजकेसरी योग, मूसल योग, केदार योग, रूचक योग, वोशि योग, भेरी योग, चंद्र मंगल योग, नीच भंग योग, अमर योग, कालह योग, शंख योग तथा वरिष्ठ योग। इन शुभ ग्रहों के प्रभाव के चलते ही नरेंद्र मोदी को देश के सबसे वरिष्ठ पद पर पहुंचने का मौका मिला। लग्न भाव के बाद पंचम भाव और भाग्य भाव त्रिकोण भाव कहलाते हैं। इनके पंचम भाव पर राहु ग्रह ने अधिकार स्थापित किया हुआ है।

इस समय मंगल महादशा की राहु अन्तर्दशा में चल रहे हैं, जो कि मई 2023 तक रहेगी। उसके बाद गुरु अन्तर्दशा रहेगी जो कि अप्रैल 2024 तक रहेगी और उसके बाद मंगल महादशा की शनि अन्तर्दशा रहेगी जो कि अप्रैल 2024 से मई 2025 तक रहेगी। इसी अन्तर्दशा में आम चुनाव होंगे। 

शनि मोदी जी की पत्रिका में लोकप्रियता प्रदान कर रहे हैं जोकि आमचुनाव के समय अपने ही घर में स्थित होकर प्रबल बहुमत प्रदान करेंगे और शायद यह इतिहास में पहली बार ऐसा होगा कि इस प्रबल बहुमत को हमेशा याद किया जायेगा।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की कुंडली में लग्नेश मंगल व भाग्येश चंद्रमा का प्रबल राजयोग लग्न में बना है जो कि सभी विरोधियों से मोदी जी को अलग करता है। मंगल की महादशा में मोदी जी सभी चुनौतियों का सामना करते हुए विश्व विख्यात नेता की छवि बना रहे हैं एवं आगे भी बनाएंगे। भारतवर्ष में मोदी स्थिर शासन दे रहे हैं, जो 2029 तक जारी रहेगा। 

Related Tags


PM Modi Birthday stars of PM Modi KUNDALI OF MODI modi birth chart modi janam kundali

Related Links


webkhabristan