कश्मीरी पंडित की हत्या की SIT जांच की मांग वाली याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई से किया इनकार

परिवार को एफआईआर की कॉपी तक नहीं दी गई।

परिवार को एफआईआर की कॉपी तक नहीं दी गई।



सुप्रीम कोर्ट की सलाह पर उन्होंने यह याचिका वापस ले ली

वेब खबरिस्तान, नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने आज 1989 में हुए कश्मीरी पंडितों के नरसंहार की एसआईटी से जांच कराने की मांग वाली याचिका पर सुनवाई से इनकार कर दिया। यह याचिका नरसंहार में मारे गए टीका लाल टपलू के बेटे आशुतोष टपलू ने दायर की थी। सुप्रीम कोर्ट की सलाह पर उन्होंने यह याचिका वापस ले ली। 


शीर्ष कोर्ट ने टपलू से कहा कि वे यह मांग उपयुक्त मंच पर करें। टीका लाल टपलू की कश्मीर में हुए नरसंहार के दौरान जेकेएलएफ के आतंकियों ने नृशंस हत्या कर दी थी। याचिका में कहा गया था कि 32 साल बीत गए हैं, परिवार को यह भी नहीं पता कि मामले में किस तरह की जांच हुई। परिवार को एफआईआर की कॉपी तक नहीं दी गई।

याचिकाकर्ता ने 1984 सिख नरसंहार के तीन दशक बाद जांच के लिए सुप्रीम कोर्ट की तरफ से गठित एसआईटी का भी हवाला दिया और टपलू की हत्या की एसआईटी जांच की मांग की। कोर्ट ने कहा कि हमने पहले इससे मिलती-जुलती याचिका खारिज की है। अब इसे नहीं सुन सकते। 

Related Tags


supreme court kashmiri pandit jammu and kashmir kashmir files

Related Links


webkhabristan