भगवंत मान सरकार का एक और बड़ा एक्शन, करप्शन केस में अब आईएएस अफसर को गिरफ्तार

संजय पोपली।

संजय पोपली।



7 करोड़ के सीवरेज प्रोजेक्ट में 1% कमीशन मांगी, पहली किश्त दे दी गई थी, दूसरी किश्त के लिए दबाव बनाया तो ठेकेदार ने सरकार के पास शिकायत कर दी, जालंधर से हुई साथी की गिरफ्तारी

खबरिस्तान नेटवर्क। आप सरकार ने एक और बड़ा एक्शन लेते हुए करप्शन केस में अब एक आईएएस अफसर को गिरफ्तार कया है। 2008 बैच के सीनियर IAS अफसर संजय पोपली के साथ सीवरेज बोर्ड के अफसर को भी पकड़ा गया है। पोपली ने सीवरेज बोर्ड में रहते 7.3 करोड़ के सीवरेज प्रोजेक्ट में 1% कमीशन मांगी था। पहली किश्त दे दी गई थी। जब दूसरी किश्त के लिए दबाव बनाया तो ठेकेदार ने सरकार के पास शिकायत कर दी। सोमवार देर रात पोपली को चंडीगढ़ में तब गिरफ्तार किया गया, जब वह पत्नी के साथ शॉपिंग कर रहे थे। पोपली इस वक्त पेंशन डायरेक्टर थे। उनके साथी आरोपी संजीव वाट्स को जालंधर से गिरफ्तार किया गया है।

हेल्पलाइन में शिकायत के बाद कार्रवाई

विजिलेंस ब्यूरो की हेल्पलाइन पर हरियाणा निवासी एक ठेकेदार संजय कुमार ने शिकायत दी थी कि उहोंने बतौर ठेकेदार नवाशंहर में नया सीवरेज डालने और नई पाइपलाइन बिछाने को लेकर काम किया था। सबंधित काम पूरा होने के बाद उन्होंने पूरे कामकाज के लिए करीब 7.30 करोड़ की बोर्ड की तरफ से अदायगी की जानी थी। जिसे लेकर काफी समय से संजय को टालमटोल किया जा रहा था। लेकिन कई बार ऑफिस के चक्कर काटने के बाद भी बोर्ड के किसी भी आलाअधिकारी व कर्मचारी ने उनकी सुनवाई नहीं की। 


उनका संपर्क बोर्ड के सीइओ संजय पोपली के सहायक सचिव संजय वाट्स से हुआ। बकायदा उन्होंने कहा कि अब रिश्वत में काफी रिस्क हो गया है। इसलिए रकम भी ज्यादा ही देनी पड़ेगी। साढ़े तीन लाख मिलते ही संजय वाट्स ने पोपली को फोन कर बताया था कि पैसे मिल गए। पीड़ित ठेकेदार ने 3 जून को परेशान होकर शिकायत सीएम द्वारा जारी विजिलेंस ब्यूरो की हेल्पलाइन नंबर पर दी थी और 17 मिनट की रिकार्डिंग भी भेजी थी। चीफ डायरेक्टर विजिलेंस ब्यूरो के ऑफिस ने इस शिकायत को सही पाया था।

नवांशहर का था प्रोजेक्ट

करनाल के सरकारी ठेकेदार संजय कुमार ने शिकायत में बताया कि संजय पोपली पिछली कांग्रेस सरकार में वाटर सप्लाई एवं सीवरेज बोर्ड के CEO थे। नवांशहर में 7 करोड़ का प्रोजेक्ट बना था, जिसमें पोपली ने 1% कमीशन यानी 7 लाख की रिश्वत मांगी थी। ठेकेदार के मुताबिक 13 जनवरी 2022 को उन्हें कॉल आई कि पोपली रिश्वत मांग रहे हैं। जिसमें विभाग के ही सुपरिटेंडिंग इंजीनियर (SE) संजीव वाट्स के जरिए चंडीगढ़ में 3.50 लाख रुपए दिए गए।

बकाया 3.50 लाख मांगे तो रिकॉर्डिंग की

विजिलेंस के मुताबिक पोपली इसके बाद पोपली बकाया 3.50 लाख रुपए मांगने लगे। जिसके बाद ठेकेदार ने इसकी कॉल रिकॉर्ड कर ली। बाद में इसे मुख्यमंत्री की एंटी करप्शन हेल्पलाइन में भेज दिया।  उनके साथी आरोपी संजीव वाट्स को जालंधर से गिरफ्तार किया गया है।

मोहाली विजिलेंस ब्यूरो पुलिस स्टेश्न में एफआईआर नंबर-9 भ्रष्टाचार अधिनियम की धारा 7,7ए और 120बी के तहत केस दर्ज किया है। दोनों को मंगलवार को डिस्ट्रिक्ट कोर्ट मोहाली में पेश किया जाएगा। 

संगरूर उपचुनाव से पहले बड़ा एक्शन

संगरूर उपचुनाव से पहले विजिलेंस का ये बड़ा एक्शन है। भगवंत मान सरकार करप्शन को लेकर शुरू से आक्रामक मोड में है। यहां तक कि भगवंत मान ने अपने ही मंत्री विजय सिंगला को कमिशन मांगने पर गिरफ्तार करवा दिया था। इसके अलावा कांग्रेस मंत्री साधु सिंह धर्मसोत को भी एक घोटाले में गिरफ्तार किया जा चुका है।  

Related Tags


big action of Mann Sarkar now IAS officer arrested in corruption case

Related Links



webkhabristan