पंजाब के 32 किसान संगठन आज बैठक में लेंगे फैसला- आगे कैसे चलेगा आंदोलन

मीटिंग में यह फैसला लिया जाना है कि अब संघर्ष को किस ढंग से चलाएंगे।

मीटिंग में यह फैसला लिया जाना है कि अब संघर्ष को किस ढंग से चलाएंगे।



इसकी अगली रणनीति क्या रहने वाली है, इस पर किसान विचार कर रहे हैं।

वेब ख़बरिस्तान, जालंधर। किसानों का संघर्ष अभी जारी रहेगा, मगर इसकी अगली रणनीति क्या रहने वाली है, इस पर किसान विचार कर रहे हैं। आज दोपहर में किसान संगठनों ने मीटिंग बुलाई है। किसान नेता जगजीत सिंह बहराम ने बताया कि मीटिंग दोपहर 2 बजे होगी। इसके बाद किसान संगठन प्रेस कांफ्रेंस या प्रेस बयान जारी कर सकते हैं।

ट्रेक्टर मार्च की कॉल पर होगा विचार


मीटिंग में यह फैसला लिया जाना है कि अब संघर्ष को किस ढंग से चलाएंगे। संयुक्त किसान मोर्चा की ओर से दी गई संसद तक ट्रैक्टर मार्च की कॉल पर भी आज विचार किया जाना है। इस पर अभी भी अलग-अलग यूनियन की अपनी राय है। सरकार के समक्ष अपना पक्ष किस ढंग से रखना है और एमएसपी को बिल के तौर लाने और बिजली शोध बिल को समाप्त करने की मांग पर भी विचार किया जाएगा।

जब तक सारी मांगें नहीं मानी जायेगी, संघर्ष जारी रहेगा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कृषि कानूनों को रद्द करने का ऐलान किया, मगर किसानों का कहना है कि इसके साथ उनकी दो और मांगें थीं, जिसमें एमएसपी को कानून के रूप में लेकर आना और बिजली संशोधन एक्ट को रद्द करना। जब तक यह दोनों मांगें नहीं मानी जाएगी, तब तक अपना संघर्ष जारी रखेंगे। किसान नेताओं ने तो यहां तक कहा कि उन्हें प्रधानमंत्री पर यकीन नहीं है, इसलिए जब तक संसद में यह बिल रद्द नहीं कर दिए जाते, तब तक वह दिल्ली के बॉर्डरों से हटेंगे नहीं।

Related Links