पठानकोट आर्मी कैंप पर हुए हमले में बड़ा खुलासा, 6 गुर्गे गिरफ्तार

मकसद शिक्षण संस्थाओं, धार्मिक संस्थाओं, पुलिस पर हमला करना भी था

मकसद शिक्षण संस्थाओं, धार्मिक संस्थाओं, पुलिस पर हमला करना भी था



पंजाब पुलिस द्वारा इंटरनेशनल सिख यूथ फेडरेशन समूह के 6 गुर्गों की गिरफ्तारी के साथ बड़े आतंकवादी मोड्यूल का पर्दाफाश किया गया है

वेब ख़बरिस्तान,पठानकोट। पंजाब पुलिस द्वारा इंटरनेशनल सिख यूथ फेडरेशन समूह के 6 गुर्गों की गिरफ्तारी के साथ बड़े आतंकवादी मोड्यूल का पर्दाफाश किया गया है। पठानकोट आर्मी कैंप पर हमले समेत हैंड ग्रेनेड हमलों को सुलझा लिया गया है। डीजीपी वीके भवरा ने बताया कि एसबीएस नगर पुलिस ने उनके कब्जे से छह हैंडग्रेनेड (86पी), एक पिस्तौल (9 मिमी), एक राइफल (.30 बोर) और साथ ही गोला बारूद और पत्रिकाएँ बरामद की गईं।

गुरदासपुर के हैं सारे आरोपी 


पकडे गए व्यक्तियों की पहचान गुरदासपुर के गाँव लखनपाल के अमनदीप उर्फ़ मंत्री, गाँव खरल के गुरविंदर सिंह उर्फ़ गिंदी, परमिंदर कुमार उर्फ़ रोहित उर्फ़ रोहता, गाँव गुन्नूपुर के राजिंदर सिंह उर्फ़ मल्ली उर्फ़ निक्कू, गाँव गोतपोकर का हरप्रीत सिंह उर्फ़ ढोलकी, गाँव गाजीकोट का रमन कुमार के रूप में हुई है।

डीजीपी वीके भवरा ने जानकारी दी 

धार्मिक संस्थाएं थी निशाना

जानकारी अनुसार दो ग्रेनेड हमले 11 नवंबर 2021 को चक्की पुल के नजदीक और पठानकोट के उपक्षेत्र त्रिवेणी के बाहर 21 नवंबर 2021 को रात 9 बजे के करीब हुआ था। डीजीपी ने बताया कि शुरूआती पूछताछ में उन्होंने बताया कि वे आईएसवायएफ के चीफ लखबीर सिंह रोडे और उसके नजदीकी साथी सुखमीतपाल सिंह और सुखप्रीत के संपर्क में थे। बरामद किया गया हैंड ग्रेनेड, हथियार व कैश रोडे द्वारा अंतराष्ट्रीय सीमा से पार करवाया गया था।

उनका मकसद शिक्षण संस्थाओं, धार्मिक संस्थाओं, पुलिस पर हमला करना भी था।

Related Links