बाबा फरीद यूनिवर्सिटी के वीसी से दुर्व्यवहार का मामला : डॉ राज बहादुर ने फिर  ठुकराया सीएम bhagwant mann का आग्रह, इस्तीफे पर कही ये बात

सीएम भगवंत मान पूरे प्रकरण के लिए स्वास्थ्य मंत्री को जिम्मेदार मान रहे हैं

सीएम भगवंत मान पूरे प्रकरण के लिए स्वास्थ्य मंत्री को जिम्मेदार मान रहे हैं



मुख्यमंत्री ने उन्हें भरोसा भी दिलाया है कि उनके सम्मान को ठेस नहीं पहुंचने दी जाएगी।

वेब खबरिस्तान। पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान बाबा फरीद यूनिवर्सिटी के वीसी पद से इस्तीफा दे चुके डॉ. राज बहादुर को हर हाल में रोकना चाहते हैं मगर स्वास्थ्य मंत्री चेतन सिंह जौड़ामाजरा के बर्ताव से आहत डॉ. राज बहादुर ने दूसरी बार मुख्यमंत्री के आग्रह को ठुकरा दिया और इस्तीफा वापस लेने से इन्कार कर दिया है। दूसरी ओर, इस मामले को लेकर आम आदमी पार्टी (आप) और मुख्यमंत्री भगवंत मान के बीच मतभेद उभरने लगे हैं। 


मुख्यमंत्री भगवंत मान जहां डॉ. राज बहादुर के प्रति सकारात्मक रवैया अपनाए हुए हैं, वहीं पंजाब आप के नेता स्वास्थ्य मंत्री के बचाव में एकजुट हो गए हैं। सीएमओ के एक वरिष्ठ अधिकारी से मिली जानकारी के अनुसार, मुख्यमंत्री ने डॉ. राज बहादुर से दूसरी बार संपर्क करके इस्तीफा वापस लेने को कहा है। साथ ही मुख्यमंत्री ने उन्हें भरोसा भी दिलाया है कि उनके सम्मान को ठेस नहीं पहुंचने दी जाएगी। 

जहाँ एक ओर सीएम भगवंत मान पूरे प्रकरण के लिए स्वास्थ्य मंत्री को जिम्मेदार मान रहे हैं और उनका साफ कहना है कि इस मामले में सही ढंग से हल किया जा सकता था। यही कारण है कि अपना पक्ष रखने पहुंचे स्वास्थ्य मंत्री को मान ने मिलने का समय तक नहीं दिया। दूसरी ओर आईएमए ने स्वास्थ्य मंत्री के इस्तीफे मांग को लेकर मान सरकार पर दबाव बढ़ा दिया है।आम आदमी पार्टी की पंजाब इकाई ने स्वास्थ्य मंत्री के पक्ष में डैमेज कंट्रोल के प्रयास किए। पार्टी ने कहा कि विवाद दुर्भाग्यपूर्ण है लेकिन आप सरकार सेहत सेवाओं के मामले में ढील बर्दाश्त नहीं करेगी। पार्टी और उसके कुछ मंत्रियों ने कहा कि जौड़ामाजरा का उद्देश्य सरकारी अस्पतालों में गरीबों के लिए बढ़िया सुविधाएं यकीनी बनाना है, इसके अलावा कुछ नहीं। 

Related Tags


dr raj bahadur vc dr raj bahadur cm bhagwant mann baba farid medical university health minister punjab health minister dr chetan singh joramajra

Related Links