करप्शन केस में आईएएस अफसर की गिरफ्तारी की पूरी कहानी, क्यों पकड़ा गया संजय पोपली

संजय पोपली

संजय पोपली



विजीलैंस ब्यूरो ने दो लोगों को रिश्वत के तौर पर 1 प्रतिशत कमीशन की माँग करने के दोष के तहत किया है गिरफ्तार

खबरिस्तान नेटवर्क। 7.30 करोड़ रुपए के टैंडर क्लियर करने के बदले 7 लाख रुपए रिश्वत मांगने के आरोपी आईएएस अफसर पोपली की शिकायतकर्ता ने वीडियो भी बनाई है। विजीलैंस ब्यूरो ने आईएएस अफसर संजय पोपली को नवांशहर में सिवरेज पाईप लाईन डालने के टैंडरों को मंज़ूरी देने के लिए कथित तौर पर रिश्वत के तौर पर 1फीसदी कमीशन की माँग करने के दोष में गिरफ्तार किया है। पोपली के साथी संदीप वत्स को जालंधर से गिरफ्तार किया गया है।

क्यों फंसा पोली

हरियाणा के करनाल के शिकायतकर्ता संजय कुमार दिखादला कोआपरेटिव सोसायटी लिमिटेड नाम की फर्म के साथ एक सरकारी ठेकेदार है। उसने भ्रष्टाचार विरोधी हेल्पलाइन पर दर्ज करवाई शिकायत में कहा कि संजय पोपली जब मुख्य कार्यकारी अधिकारी ( सी.ई.ओ.) पंजाब जल सप्लाई और सीवरेज बोर्ड के तौर पर तैनात थे। उन्होंने अपने सहायक सचिव सन्दीप वत्स की मिलीभगत से 7.30 करोड़ रुपए के टैंडर क्लियर करने के लिए रिश्वत की माँग की थी।


शिकायतकर्ता ने बताया कि 12 जनवरी, 2022 को सन्दीप के व्हाट्सऐप से उसे कॉल आई, जिसमें संजय पोपली की तरफ़ से टैंडर अलाटमैंट के लिए 7 लाख रुपए (7 करोड़ रुपए के प्रोजैक्ट का 1फीसदी) की रिश्वत मांगी थी। उसने डर कर अपने पीएनबी खाते में से 3. 5 लाख रुपए निकलवा कर सैक्टर-20, चंडीगढ़ में एक कार में सन्दीप वत्स को दे दिए। उसने बताया कि रकम प्राप्त करने के बाद सन्दीप वत्स ने संजय पोपली को उसके व्हाट्सऐप नंबर पर कॉल करके पुष्टि भी की और अपने लिए भी 5000 रुपए लिए थे।

बकाया देने से किया था इन्कार

हालांकि शिकायतकर्ता ने संजय पोपली के नाम पर सन्दीप वत्स की तरफ से बार-बार मांगे जा रहे बाकाये 3. 5 लाख रुपए देने से इन्कार कर दिया था। शिकायतकर्ता ने सारी बातचीत की वीडियो रिकार्डिंग भी बना कर विजीलैंस ब्यूरो को सौंप दी है।

विजीलैंस ब्यूरो के प्रवक्ता ने बताया कि संजय कुमार के बयानों के साथ-साथ उसकी तरफ से पेश किये वीडियो सबूतों के आधार पर आई. ए. एस अधिकारी संजय पोपली और सन्दीप वत्स के विरुद्ध टैंडर अलाट करने के बदले 1 प्रतिशत रिश्वत मांगने और 3.5 लाख रुपए प्राप्त करने के दोष के तहत केस दर्ज किया गया है।

करप्शन पर मान का एक्शन

मुख्यमंत्री के तौर पर पद संभालने के बाद भगवंत मान ने भ्रष्टाचार विरोधी हेल्पलाइन नंबर 9501200200 की शुरूआत की और पंजाब के लोगों को भ्रष्टाचार से सम्बन्धित शिकायतें व्हाट्सएप द्वारा सांझा करने की अपील की थी जिससे राज्य को भ्रष्टाचार मुक्त बनाया जा सके।

हेल्पलाइन की शुरुआत के बाद राज्य के स्वास्थ्य मंत्री विजय सिंगला, पूर्व कांग्रेसी मंत्री साधु सिंह धर्मसोत, पूर्व कांग्रेसी विधायक जोगिन्द्र पाल समेत कई नामी लोगों को भ्रष्टाचार के दोषों के तहत गिरफ्तार किया गया है। पिछले दिनों भगवंत मान ने इशारा किया था कि उनके पास कई लोगों का कच्चा चिट्ठा है। वह पूरी तैयारी के साथ इन्हें पकड़ेंगे ताकि बाहर न आ सकें।

Related Tags


Full story of arrest of IAS officer in corruption case why Sanjay Popli was caught

Related Links



webkhabristan