अकाली नेता की पिटीशन पर ट्रांसपोर्ट मंत्री राजा वड़िंग को हाईकोर्ट का नोटिस, पढ़ें पूरी खबर

ट्रांसपोर्ट मंत्री अमरिंदर सिंह राजा वड़िंग को बड़ा झटका लगा है

ट्रांसपोर्ट मंत्री अमरिंदर सिंह राजा वड़िंग को बड़ा झटका लगा है



पंजाब में चुनाव को केवल साढ़े तीन महीने का समय ही रह गया है। चुनाव नजदीक आते ही बस ट्रांसपोर्ट का मामला गर्मा गया है।

वेब ख़बरिस्तान,चंडीगढ़। पंजाब में चुनाव को केवल साढ़े तीन महीने का समय ही रह गया है। चुनाव नजदीक आते ही बस ट्रांसपोर्ट का मामला गर्मा गया है। जहाँ एक ओर आप संयोजक अरविंद केजरीवाल ने कांग्रेस सरकार पर माफिया को साथ रखने का आरोप लगाया। दूसरी ओर मुख्यमंत्री चरणजीत चन्नी ने कहा कि उन्होंने बादल परिवार की एसी बसें थाने में बंद करवा दी। लेकिन अब बसों पर कार्रवाई के मामले में ट्रांसपोर्ट मंत्री अमरिंदर सिंह राजा वड़िंग को बड़ा झटका लगा है। पंजाब व हरियाणा हाईकोर्ट ने उनको नोटिस जारी कर जवाब मांगा है। यह नोटिस अकाली नेता की बसों के परमिट रद्द करने पर भेजा गया है।

पंजाब सरकार को भी नोटिस दिया


हाई कोर्ट में यह पिटीशन अकाली नेता और न्यू दीप बस सर्विस के पार्टनर हरदीप सिंह ढिल्लो ने दायर की थी। इसकी सुनवाई में जस्टिस अजय तिवारी और जस्टिस पंकज जैन ने आदेश दिए। पंजाब सरकार को भी नोटिस दिया गया है। अकाली नेता के वकील एडवोकेट रोहित सूद और अमनदीप तलवार ने कहा कि उनके परमिट अवैध तरीके से रद्द किए गए हैं। इसके लिए उन्होंने मंत्री के 12 नवंबर के ऑर्डर का हवाला दिया है। उन्होंने इस आदेश को लागू करने पर रोक लगाने और उनकी जब्त की गई बसों को भी तत्काल छोड़ने की मांग की है।

परमिट की शर्तों मुताबिक चला रहे बसें

पिटीशन में कहा गया कि उन्हें फरवरी 2018 में सरकार ने बसों के परमिट जारी किए थे। परमिट की शर्तों के मुताबिक ही वह बसें चला रहे थे। कोरोना के कारण लॉकडाउन लगने के बाद 23 मार्च 2020 को बसें बंद हो गई। बाद में केवल 50% क्षमता के साथ शुरू हुई। इसके बाद दूसरी लहर में फिर बसें बंद हो गई। इसके बावजूद 12 नवंबर को उनकी 26 बसें जब्त कर ली गई। उन्होंने किश्तों में टैक्स भरने की रियायत मांगी और पहली किश्त भर भी दी। इसके बाद भी उनकी बसों पर मंत्री कार्रवाई कर रहे हैं।

Related Links