लुधियाना में DC और CP दफ्तर में हुई सख्ती, अब आधार कार्ड या पहचान पत्र दिखाकर ही मिलेगी एंट्री

DC और CP दफ्तर में हुई सख्ती

DC और CP दफ्तर में हुई सख्ती



गहन जांच के बाद ही लोगों को अंदर जाने दिया जा रहा है। डीसी और सीपी दफ्तर में आने वाले लोगों का रखा जा रहा रिकार्ड

वेब ख़बरिस्तान। मोहाली में पंजाब पुलिस के खुफिया विभाग के मुख्यालय पर आरपीजी से किए गए हमले के बाद पंजाब में अलर्ट जारी किया गया है। सभी जिला मुख्यालयों पर सुरक्षा के पुख्ता प्रबंध करने के निर्देश दिए गए हैं। लुधियाना में भी डीसी व सीपी दफ्तर में सुरक्षा कड़ी कर दी गई है। गहन जांच के बाद ही लोगों को अंदर जाने दिया जा रहा है। डीसी और सीपी दफ्तर में आने वाले लोगों का रिकार्ड रखा जा रहा है। उनके आधार कार्ड या अन्य पहचान पत्र की जांच के बाद ही लोगों को एंट्री मिल रही है।


पुलिस कमिश्नर डा. कौस्तुभ शर्मा ने सभी सरकारी इमारतों की सुरक्षा चाक चौबंद करने के निर्देश दिए हैं। पुलिस सभी संवेदनशील स्थानों पर कड़ी नजर रख रही है। पुलिस कंट्रोल रूम के तहत चलने वाले वाहनों और मोटरसाइकिलों के कर्मचारियों को भी अलर्ट पर रहने के लिए कहा गया है। इसी कड़ी में मंगलवार को पुलिस कमिश्नर लुधियाना रेलवे स्टेशन पर अधिकारियों के साथ बैठक की है। इसमें रेलवे डायरेक्टर, जीआरपी एसएचओ, एसपी और अन्य अधिकारियों मौजूद थे। इस दौरान रेलवे स्टेशन पर लगे सीसीटीवी कैमरों की जांच भी की गई।

सीपी ने कहा कि असामाजिक तत्वों के एक जगह से दूसरी जगह जाने के लिए बस और ट्रेन सबसे आसान साधन हैं। ऐसे में यहां अधिक सतर्कता बरतनी होगी। गौरतलब है कि लुधियाना में प्रतिदिन दो से ढाई लाख लोग काम के सिलसिले में आते-जाते हैं। आम आदमी पार्टी के विधायकों व मंत्रियों की सुरक्षा को भी यकीनी बनाने में जुटी है। पुलिस के एंटी साबोटाइज विंग ने साहनेवाल हलके के विधायक हरदीप मुंडियां के कार्यालय की जांच भी की। अन्य विधायकों की सुरक्षा को भी रिव्यू किया गया है।

पिछले साल 23 दिसंबर को लुधियाना के अदालत परिसर की पहली मंजिल पर भी विस्फोट हो चुका है। इसमें बम रखने वाले की ही मौत हो गई थी। कई लोग घायल हुए थे और अदालत की इमारत को भी नुकसान हुआ था। हाल में करनाल पुलिस द्वारा विस्फोटक के साथ पकड़े गए लोगों में एक आरोपित लुधियाना का रहने वाला था। 

Related Links