सऊदी अरब की जेल में बंद पंजाबी युवक को बचाने के लिए मुस्लिम भाईचारा आया आगे, शाही इमाम ने कहा वे देंगे 2 करोड़ रूपए

सऊदी की पुलिस आई

सऊदी की पुलिस आई



युवक बलविंदर सऊदी अरब की जेल में क़त्ल के आरोप में बंद है।

वेब खबरिस्तान, चंडीगढ़। मुक्तसर के गांव मल्लन का रहने वाला युवक बलविंदर सऊदी अरब की जेल में क़त्ल के आरोप में बंद है। उसके पास बचने के दो ही रास्ते हैं- पहला वह दो करोड़ भारतीय रुपए ब्लड मनी के तौर पर जमा करे या इस्लाम धर्म कबूल कर ले। अगर इन दोनों में से कुछ नहीं किया तो 4 दिन बाद पंजाबी युवक का सिर कलम कर दिया जाएगा। उसे बचाने के लिए परिजनों ने चंडीगढ़ में पंजाबियों से मदद की गुहार लगाई। 

इसी को देखते हुए शाही इमाम की ओर से ब्लड मनी 2 करोड़ रूपए देकर नौजवान की जान बचाने की अपील की जायेगी। 


परिजनों ने कहा था कि करीब सवा करोड़ जमा हो चुके हैं। बलविंदर के भाई जोगिंदर और सोशल वर्कर रूपिंदर मनावा ने बताया कि बलविंदर साल 2008 में सऊदी अरब गया था। वहां वह एक कंपनी में काम करते हुए कंपनी मालिक का करीबी बन गया। उनकी कार चलाने लगा। बलविंदर कोई नशा नहीं करता है।

नीग्रो की हुई थी मौत 

साल 2013 में अचानक एक दिन रात को नीग्रो ने शराब पीकर कंपनी में हंगामा कर दिया। बलविंदर तब कंपनी का सुपरवाइजर बन चुका था। मालिक ने उसे तुरंत वहां जाने के लिए कहा। वहां उसने जब नीग्रो को रोकने की कोशिश की तो वह चाकू लेकर बलविंदर के पीछे दौड़ा। बलविंदर ने उसे रोकने की कोशिश की तो नीग्रो का सिर जमीन पर लग गया। इससे उसकी मौत हो गई।

सऊदी की पुलिस आई। उसे नहीं पता कि क्या बात हुई? वह उनकी भाषा नहीं जानता था। बलविंदर ने उन्हें बहुत समझाने की कोशिश की, लेकिन वह नहीं माने। इसके बाद उसे जेल में बंद कर दिया गया। उसे 7 साल की सजा हुई, लेकिन जेल में बंद हुए 9 साल बीत चुके हैं। कंपनी ने भी उनकी मदद नहीं की। 

बलविंदर धर्म बदलने के लिए राजी नहीं हुआ।

Related Links