मंत्री परगट सिंह ने कहा - स्कूल एजुकेशन में हम पहले और दिल्ली 6वें नंबर पर, केजरीवाल चिंता न करें

परगट सिंह ने कहा - पंजाब में पहले ही शिक्षा में क्रांति हो रही है।

परगट सिंह ने कहा - पंजाब में पहले ही शिक्षा में क्रांति हो रही है।



केजरीवाल को पंजाब की पूरी जानकारी नहीं है। इसलिए बता देता हूं कि हम दिसंबर अंत तक 20 हजार टीचर भर्ती कर रहे हैं।

वेब ख़बरिस्तान,चंडीगढ़। आम आदमी पार्टी के संयोजक अरविंद केजरीवाल पंजाब में दिल्ली का शिक्षा मॉडल लागू करना चाहते हैं। इस लिए उन्होंने अमृतसर में शिक्षकों को 8 गारंटी भी दी। इसके बाद अब पंजाब के शिक्षा मंत्री परगट सिंह ने सोशल मीडिया पोस्ट के जरिये अरविंद केजरीवाल के खिलाफ मोर्चा खोला है। परगट सिंह ने कहा कि स्कूल एजुकेशन में पंजाब पहले और दिल्ली 6वें नंबर पर है। अरविन्द केजरीवाल पंजाब की चिंता न करें। 

दिल्ली वालों को पंजाब आने का समय चुनावों में ही मिलता है

परगट सिंह ने कहा - पंजाब में पहले ही शिक्षा में क्रांति हो रही है। यह अलग बात है कि आप इसे मिस कर गए। यह समझ भी आता है क्योंकि दिल्ली वालों को सिर्फ पंजाब में चुनाव के दौरान ही आने का वक्त मिलता है। उन्होंने लिखा -पंजाब ने स्कूल एजुकेशन के नेशनल परफार्मेंस ग्रेड इंडेक्स में टॉप किया है। दिल्ली के मुकाबले पंजाब पढ़ाई से लेकर इन्फ्रास्ट्रक्चर तक पहले नंबर पर रहा है। पंजाब में टीचर-स्टूडेंट अनुपात भी दिल्ली के मुकाबले बेहतर है। पंजाब में 4% के मुकाबले दिल्ली में 15% स्कूलों में यह अनुपात खराब है। केजरीवाल पंजाब की चिंता करने से पहले दिल्ली का सिस्टम सुधारें।


केजरीवाल को पंजाब की पूरी जानकारी नहीं है। इसलिए बता देता हूं कि हम दिसंबर अंत तक 20 हजार टीचर भर्ती कर रहे हैं। इससे पहले हम 8,886 टीचरों को रेगुलर कर चुके हैं। इसके अलावा 1,117 स्टाफ को प्रमोट कर चुके हैं।

पंजाबियों को हमारे सरकारी स्कूल सिस्टम पर पूरा भरोसा है। पिछले 4 वर्षों में पंजाब के सरकारी स्कूलों की प्राइमरी क्लास में स्टूडेंट्स की गिनती 1.93 लाख से बढ़कर 3.3 लाख हो चुकी है।

केजरीवाल को पंजाब के टीचरों की ट्रांसफर पॉलिसी को लेकर चिंता करने की जरूरत नहीं है। यह भारत की सबसे बेहतर और पारदर्शी पॉलिसी है। जो पूरी तरह ऑनलाइन है। टीचरों को घर के नजदीक स्टेशन चुनने की आजादी है और साल में यह सिर्फ एक ही बार की जाती है।

 

Related Links