मान सरकार का बड़ा फैसला : राजिंदर भट्ठल, सुनील जाखड़, हरसिमरत बादल की सिक्योरिटी घटाई



पंजाब से बड़ी खबर सामने आ रही है।

वेब खबरिस्तान। पंजाब से बड़ी खबर सामने आ रही है। सीएम bhagwant मान ने बड़ा फैसला लेते हुए अकाली दल और कांग्रेस नेताओं की सुरक्षा में लगे कई मुलाजिम वापिस ले लिए गए है।

पूर्व कांग्रेसी डिप्टी सीएम ओपी सोनी को जेड सिक्योरिटी कैटेगरी में रखा गया था। उनकी सुरक्षा में 37 कर्मचारी और 1 वाहन था। अब वाहन और 19 कर्मचारी वापस ले लिए गए हैं।

पूर्व शिक्षा मंत्री विजयइंदर सिंगला को पंजाब पुलिस ने जेड सिक्योरिटी में रखा था। उनके साथ 22 कर्मचारी और एक वाहन था। अब उनसे 18 पुलिस कर्मी और वाहन वापस ले लिया गया है। उनके पास सिर्फ 4 गनमैन रहेंगे।

सांसद हरसिमरत कौर बादल को पंजाब पुलिस ने जेड सिक्योरिटी कैटेगरी में रखा था। इनके पास 13 कर्मचारी और एक वाहन था। अब उनकी सुरक्षा वाई कैटेगरी की कर दी गई है। उनके पास सिर्फ 11 कर्मचारी रहेंगे। 2 कर्मचारी और वाहन वापस मंगवा लिया गया है।


पंजाब की पूर्व सीएम राजिंदर कौर भट्‌ठल के पास 36 पुलिसकर्मी और 3 वाहन थे। उन्हें वाई कैटेगरी की सिक्योरिटी थी। अब इनसे 28 पुलिसकर्मी और तीनों वाहन वापस ले लिए गए हैं। भट्‌ठल की सिक्योरिटी में सिर्फ 8 पुलिसकर्मी रहेंगे।

पंजाब कांग्रेस के पूर्व प्रधान जाखड़ को जेड सिक्योरिटी कैटेगरी में रखा गया था। उनके साथ 14 पुलिसकर्मी और एक वाहन था। मान सरकार ने तर्क दिया कि उन्हें कोई सिक्योरिटी थ्रेट नहीं है। उनके 12 पुलिसकर्मी और एक वाहन वापस ले लिया गया है।

पूर्व विधायक नवतेज चीमा को वाई प्लस सिक्योरिटी की कैटेगरी में रखा गया था। उनके साथ 13 पुलिसकर्मी और एक वाहन था। अब उनके पास सिर्फ 2 गनमैन रहेंगे। 11 गनमैन और वाहन वापस ले लिया गया है।

पूर्व विधायक केवल ढिल्लो को वाई प्लस कैटेगरी में रखा गया था। उनके साथ 11 पुलिसकर्मी और एक वाहन था। अब सरकार ने सब वापस ले लिया है।

पूर्व कांग्रेसी विधायक परमिंदर पिंकी को जेड सिक्योरिटी मिली थी। उनकी सुरक्षा में 28 पुलिसकर्मी और एक वाहन था। अब उनसे 26 पुलिसकर्मी और वाहन वापस ले लिया गया है।

टोटल 127 पुलिस मुलाजिम और 9 पायलट गाड़ियाँ वापिस ले ली गयी हैं। सीएम bhagwant mann ने कहा कि ये पुलिस मुलाजिम हम लोगों की सुरक्षा में लगायेंगे। पूर्व विधायक नवतेज चीमा ने कहा कि सुरक्षा इंटेलिजेंस रिपोर्ट के आधार पर मिलती है। जिस दिन कोई नेता मरा तो आम आदमी पार्टी की सरकार को पता चलेगा।

Related Links