जालंधर इंप्रूवमेंट ट्रस्ट से दफ्तर से दस्तावेज और कैशबुक गायब होने के मामले सीनियर सहायक अजय समेत दो सस्पैंड



पुलिस ने अजय के खिलाफ दर्ज की थी एफआईआर

वेब ख़बरिस्तान। जालंधर इंप्रूवमेंट ट्रस्ट से दफ्तर से कई जरूरी दस्तावेज और कैशबुक गायब होने के मामले में सरकार ने सीनियर सहायक अजय मल्होत्रा और जूनियर सहायक अनुज राय के सस्पैंड कर दिया है। मामले में पुलिस ने पिछले महीने 28 तारीख को मामला दर्ज किया था। 


उधर, मीडिया में पिछले हफ्ते लिखी एक पुरानी चिट्ठी भी शेयर की जा रही है, जिसमें अजय मल्होत्रा ने अब इस कांड में एक नए चेहरे को जोड़ दिया है। इस नए चेहरे का नाम संजीव कालिया है। अजय मल्होत्रा की ओर से एडीसी को एक चिट्ठी लिखी है, उसने झूठे मामले में फंसाने का आरोप लगाया है। उनका आरोप है कि - इस सब के पीछे करतारपुर इंप्रूवमेंट ट्रस्ट में नौकरी कर रहे संजीव कालिया का हाथ है। मल्होत्रा ने एडीसी को भेजी चिट्ठी में कहा है कि करतारपुर में नौकरी कर रहे संजीव कालिया आए दिन जालंधर इंप्रूवमेंट ट्रस्ट दफ्तर में बैठे रहते हैं। हालांकि इससे पहले अजय मल्होत्रा ने कालिया का कभी नाम नहीं लिया।

कालिया पर फाइलें खुर्द बुर्द करने का आरोप

अजय मल्होत्रा ने आरोप लगाया है कि उन्हें डर है कि संजीव कालिया जालंधर दफ्तर में सरकारी फाइलों को खुर्द- बुर्द कर रहे हैं। इसलिए संजीव कालिया को जालंधर दफ्तर में प्रवेश पर पाबंदी लगाई जाए। मल्होत्रा ने कहा है कि जिस समय ईओ परमिंदर सिंह गिल जालंधर में बतौर ईओ ज्वाइन किया, उस समय से संजीव कालिया की जालंधर दफ्तर में गतिविधियां बढ़ गई। सबूत के तौर पर दफ्तर में लगे सीसीटीवी कैमरे की फुटेज और फोन लोकेशन देखी जा सकती हैं।

उधर, संजीव कालिया का कहना कि – ये शिकायत झूठी है। वह अजय मल्होत्रा के खिलाफ मानहानि का मामला दर्ज करवाएंगे। उनकी पोस्टिंग करतारपुर इंप्रूवमेंट ट्रस्ट में है। कभी कोई सरकारी काम के लिए अगर जालंधर इंप्रूवमेंट ट्रस्ट गया होगा तो अलग बात है, मैं व्यक्तिगत तौर पर कभी भी जालंधर दफ्तर नहीं गया हूं

 

Related Links