पंजाब कांग्रेस की चहल पहल - कैप्टन अमरिंदर सिंह के समर्थन में आए सांसद प्रताप सिंह बाजवा



सांसद प्रताप सिंह बाजवा ने कैप्टन अमरिंदर सिंह से सिसवां फार्म हाउस में मुलाकात कर सबको हैरान कर दिया चूंकि वे पहले कैप्टन विरोधी रहे हैं।

वेब खबरिस्तान, जालंधर। सांसद प्रताप सिंह बाजवा ने कैप्टन अमरिंदर सिंह से सिसवां फार्म हाउस में मुलाकात कर सबको हैरान कर दिया चूंकि वे पहले कैप्टन विरोधी रहे हैं। प्रताप बाजवा ने रविवार को पंजाब में कांग्रेस के लोकसभा और राज्यसभा के सांसदों को अपने निवास पर लंच पर भी बुलाया है। इस मुलाकात के बाद श्री आनंदपुर साहिब से सांसद मनीष तिवारी, अमृतसर से सांसद गुरजीत औजला और लुधियाना से सांसद रवनीत सिंह बिट्‌टू ने भी ट्वीट के जरिए सिद्धू विरोधी सुर अपना लिए हैं।

बाकी जिलों का प्रतिनिधित्व कहां गया?

नवजोत सिंह सिद्धू के विरोध में अब लंबे समय से कांग्रेस के साथ जुड़े कांग्रेसी इकट्‌ठा होने लगे हैं। अब ये भी सवाल उठाया जाने लगा है कि मुख्यमंत्री (कैप्टन अमरिंदर सिंह) और प्रधान (संभावित नवजोत सिद्धू) एक ही जिले यानी पटियाला से क्यों? बाकी जिलों का प्रतिनिधित्व कहां गया? दूसरी ओर नवजोत सिंह सिद्धू लगातार विधायकों से मुलाकात कर रहे हैं।

बाजवा ने अमरिंदर सिंह को सीएम पद से हटाने की मांग की थी


सांसद प्रताप सिंह बाजवा मुख्यमंत्री बनने के इच्छुक थे और उन्होंने पिछले साल कैप्टन को सीएम पद से हटाने की मांग तक कर डाली थी। उन्होंने कहा था कि 90% विधायक कैप्टन के मुख्यमंत्री रहने के पक्ष में नहीं हैं। अगर कैप्टन पंजाब में सीएम रहे तो कांग्रेस का गेम ओवर होना तय है। ऐसे में अचानक सिद्धू के प्रधान पद पर एंट्री के बाद बाजवा और कैप्टन की बैठक ने नए समीकरण की ओर इशारा किया है।

मनीष तिवारी ने ट्वीट किया दोनों को साथ देखकर अच्छा लगा

मनीष तिवारी ने कैप्टन अमरिंदर सिंह और प्रताप बाजवा की बैठक की फोटो ट्वीट कर लिखा कि दोनों को साथ देखकर अच्छा लग रहा है। प्रताप बाजवा को साल 1983 से जानता हूँ और उम्मीद है कि कैप्टन के साथ मिलकर वो 2022 विधानसभा चुनावों के लिए अच्छी टीम तैयार करेंगे।

Related Links