केपटाउन टेस्ट में मोहम्मद सिराज की जगह किसे मिलेगा मौका? पढ़िए किसका पलड़ा है भारी

'हैमस्ट्रिंग' में खिंचाव की वजह से दूसरे टेस्ट में सिराज केवल 15.5 ओवर गेंदबाजी कर सके थे



सिराज के जांघ की मांसपेशियों में खिंचाव के कारण तीसरे टेस्ट में खेलने पर सस्पेंस बना हुआ है

वेब ख़बरिस्तान। भारतीय टीम के तेज गेंदबाज मोहम्मद सिराज के जांघ की मांसपेशियों में खिंचाव के कारण तीसरे टेस्ट में उनके खेलने पर सस्पेंस बना हुआ है। यह मैच साउथ अफ्रीका के खिलाफ 11 जनवरी से केपटाउन में शुरू होगा। जोहान्सबर्ग टेस्ट के बाद हेड कोच राहुल द्रविड़ ने कहा था कि मोहम्मद सिराज पूरी तरह फिट नहीं है।

दूसरी पारी में डाले थे 6 ओवर

'हैमस्ट्रिंग' में खिंचाव की वजह से दूसरे टेस्ट में सिराज केवल 15.5 ओवर गेंदबाजी कर सके थे। जबकि दूसरी पारी में टीम को उनकी सबसे ज्यादा जरूरत थी, लेकिन वह केवल छह ओवर ही कर पाए थे। केपटाउन टेस्ट तक सिराज अगर फिट नहीं हो पाते हैं, तो उनकी जगह उमेश यादव या इशांत शर्मा में किसी एक को प्लेइंग-इलेवन में जगह मिल सकती है।

इशांत के पास 100 टेस्ट खेलने का अनुभव


इशांत के पास 100 टेस्ट खेलने का अनुभव है और उमेश भी 50+ टेस्ट मैच खेल चुके हैं। इशांत फिलहाल बढ़िया लय में नहीं है और वहीं उमेश का प्रदर्शन इशांत से तो बेहतर रहा है, मगर बढ़ती उम्र के साथ उनकी गति में भी गिरावट आई है।

लेकिन केपटाउन टेस्ट में इशांत शर्मा का पलड़ा उमेश यादव से ज्यादा भारी नजर आता है। चूंकि इस मैदान पर इशांत शर्मा ने एक टेस्ट खेला है और 46.33 की औसत से 3 विकेट लिए हैं। दूसरी ओर उमेश ने इस मैदान पर एक भी टेस्ट मैच नहीं खेला है। उमेश यादव के पास साउथ अफ्रीका में खेलने का भी कोई अनुभव नहीं है।

ऊंचे कद के गेंदबाजों से हुई परेशानी

जोहान्सबर्ग टेस्ट में मिली हार के बाद कोच राहुल द्रविड़ ने अपने बयान में कहा था- ऐसा लगा जैसे गेंद उनके लिए थोड़ा अधिक हरकत कर रही थी। इसका कारण दक्षिण अफ्रीका गेंदबाजों का लंबा कद हो सकता है।

भारतीय टीम के पूर्व मुख्य चयनकर्ता एमएसके प्रसाद ने भी इशांत को प्लेइंग-इलेवन में शामिल करने की मांग की। उन्होंने कहा- हमें जोहान्सबर्ग में एक लंबे तेज गेंदबाज की कमी महसूस हुई। हमारे पास केवल इशांत है। इस तरह की पिचों पर मैं उन्हें उमेश से आगे रखूंगा। अगर यह एक भारतीय पिच होती तो उमेश पहली पसंद होते।

Related Links